Dragon Fruit Profit: इस पौधे की खेती कर किसान कमा सकते हैं अच्छा मुनाफा, उन्नत खेती की जानकारी के लिए पढ़ें पूरी ख़बर


ड्रैगन फ्रूट (Dragon Fruit) को अन्य फलों जैसे संतरे, अमरूद, टमाटर, एवोकैडो आदि के विकल्प के रूप में उगाया जाता है. इस फल का बाजार मूल्य इसके उच्च पोषण के कारण अधिक होता है. यही नहीं किसानों ने इसके लाभों को पहचान लिया है और ड्रैगन फ्रूट का बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू कर दिया है. ड्रैगन फ्रूट की खेती से किसानों को अधिक लाभ मिलता है. तो आइये आज हम आपको ड्रैगन फ्रूट की खेती (Dragon Fruit Farming) पर पूरी जानकरी देने वाले हैं.

 

ड्रैगन फ्रूट की खेती कैसे करें (How to Cultivate Dragon Fruit)

 

ड्रैगन फ्रूट की मिट्टी और जलवायु (Dragon fruit soil and climate)

 

ड्रैगन फ्रूट को व्यावहारिक रूप से किसी भी मिट्टी पर लगाया जा सकता है. लेकिन रेतीली मिट्टी जिसमें पानी की अच्छी व्यवस्था होती है वो ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए उपयुक्त होती है. अच्छी फसल के लिए मिट्टी का पीएच 5.5 से 6.5 - 7.0 के बीच होना चाहिए. मिट्टी की क्यारियां 40-50 सेमी ऊंची होनी चाहिए.

 

Dragon Fruit फसल का एक महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह अत्यधिक तापमान की स्थिति और खराब गुणवत्ता वाली मिट्टी में भी उग सकती है. लेकिन यह फल सबसे अच्छी वृद्धि के लिए 40-60 सेमी की वार्षिक वर्षा के साथ उष्णकटिबंधीय जलवायु के लिए सबसे उपयुक्त है. इसकी सर्वोत्तम वृद्धि के लिए इष्टतम तापमान 20-30 डिग्री सेंटीग्रेड है.

 

ड्रैगन फ्रूट का प्रोपोगेशन (Dragon fruit propagation)

 

ड्रैगन फ्रूट के पौधे मध्यम विकसित होते हैं और प्रजनन के लिए अनुचित होते हैं. बता दें कि एच. अंडटस और एच. कोस्टारिसेंसिस प्रजातियों को जमीन के संपर्क में आने पर तने को हटाकर सामान्य रूप से और प्रभावी ढंग से बढ़ाया जा सकता है. इसे पश्चिम बंगाल की स्थिति में आने के लिए 12-15 महीने की आवश्यकता होती है. वहीं विभिन्न जलवायु परिस्थितियों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में समय की लंबाई भिन्न हो सकती है. बीज को भी प्रजनन सामग्री के रूप में उपयोग किया जा सकता है लेकिन इसे असर करने के लिए 3 साल की आवश्यकता होती है.

 

ड्रैगन फ्रूट का रोपण (Dragon Fruit Planting)

 

Dragon Fruit के रोपण से पहले, मिट्टी के बिस्तर तैयार करने की जरूरत है. 1.5 मीटर x 1.5 मीटर का क्षेत्र चुनें और 1 मीटर की गहराई पर खुदाई करें. इस छेद को धूप में रखें और 20-25 दिनों के बाद 25-30 किलोग्राम खाद या जैविक खाद, 250 ग्राम सुपर फॉस्फेट, 250 ग्राम एमओपी, 150 ग्राम जिप्सम और 50 ग्राम जिंक सल्फेट डालें. गड्ढा भरने के 10-15 दिनों के बाद 4 जड़ों वाली कटिंग 50 सेमी की दूरी पर मध्य स्थिति में लगाएं. साथ ही 100 ग्राम यूरिया उर्वरक को 1 महीने से 1 साल के बाद हर 3 महीने में प्रत्येक मिट्टी के बिस्तर के लिए लगाने की जरूरत होती है.

 

ड्रैगन फ्रूट की सिंचाई (Dragon Fruit Irrigation)

 

चूंकि Dragon Fruit कम वर्षा वाले क्षेत्र में उग सकता है इसलिए सिंचाई प्रणाली एक कारक नहीं है. लेकिन अच्छी गुणवत्ता वाले फलों के लिए नियमित अंतराल पर पानी की आपूर्ति की आवश्यकता होती है.

 

ड्रैगन फ्रूट की कटाई (Dragon Fruit Harvest)

 

ड्रैगन फलों की प्रजातियों के आधार पर फलों की कटाई में 25-30 दिन का समय लग सकता है. फलों का रंग हरे से गुलाबी या गाढ़ा गुलाबी हो जाये तभी काटना चाहिए. पूर्ण विकसित फलों को शीघ्र ही काट लेना चाहिए अन्यथा वे फूट कर नष्ट हो जाते हैं और 4-5 दिनों में सड़ सकते हैं. लगभग प्रति हेक्टेयर 15-30 टन फलों की कटाई की जा सकती है. कटाई के दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है ताकि फलों को कम चोट लगे. फल प्रति वर्ष 5-6 बार एकत्र किए जाते हैं.

 

ड्रैगन फ्रूट का कीट नियंत्रण कैसे करें (How to Control Dragon Fruit Pest)

 

ड्रैगन फ्रूट डैमेज के लिए चींटियां बहुत खतरनाक कीट हैं. यह न केवल पौधों को बल्कि फूलों और फलों को भी नुकसान पहुंचाती है. पक्षी और चूहे भी ड्रैगन फ्रूट के फूलों को भी नुकसान पहुंचाते हैं. ड्रैगन फ्रूट कल्टीवेटर के लिए मधुमक्खियां भी हानिकारक होती हैं. इन सभी कीट को नियंत्रित करने के लिए मैलाथियान का उपयोग किया जा सकता है.

 

Source : Krishijagran

https://hindi.krishijagran.com/farm-activities/farmers-can-become-millionaires-by-cultivating-dragon-fruit-read-full-information-to-grow